Tuesday, 11 October 2016

दर्द खत्म नही होता।

अनुभूतियां कभी खत्म नही होतीं,, चाहे वो अच्छी हो या बुरी... जो यादें जो लोग एक बार जहन में, दिल में, मन में जगह बनाने में सफल हो जाते हैं।। उनको भूलना असंभव सा लगता हैं,, ।। कोई कितना भी कठोर दिल क्यों ना हो अगर उसका सच में किसी से सच्चा लगाव है, तो वो उससे बिछड़ने की बातों को सोचकर ही पागल सा होने लगता है,, और अगर उसके सामने वाला भी ठीक उसी प्रकार उसके लिए पागल हो तो उन दोनों के लिए एक दूसरे को भूलना नामुमकिन हैं।।
लेकिन समय और परिस्थितियां ना जाने कब किसको किस मोड़ पर लाकर खड़ा कर दें, एक ऐसै मोड़ जहां पर उसको उन सारी परिस्थितियों का सामना करना पड़े जिसके बारे में वो सोच भी नहीं सकता था,,।. समय सबसे बलवान होता हैं,, ये बात तो सच है लेकिन समय के साथ चलते हुए भी लोग साथ-साथ रह सकते हैं।। लेकिन अगर किसी का साथी समय के साथ ना चल पाया तो दूसरा उसका हाथ बीच राह में ही छेड़ दे से कहां का न्याय है?
किसी के जीवन भर साथ निभाने की कसम खाने के बाद उसको तड़पने, रोने, धीरे-धीरे मरने के लिए छोड़ देना कहा का न्याय हैं??  मेरा मन किसी पर भी उंगली उठाने का नहीं है लेकिन एक सवाल उससे जरूर है कि जो कभी किसी को उदास भी नहीं देख सकता था, आज ये जानते हुए भी कि उसके चेहरे की प्यारी सी मुस्कान हमेशा के लिए खत्म हो चुकी हैं।। वो खुद भी खत्म हो चुका है।
सिर्फ और सिर्फ दूसरो को ये दिखाने के लिए कि आप की वजह से वो पागल नहीं हुआ है, कभी कभी मुश्कुरा देता हैं,, उसको ये हाल जानकर आपके मन में पीड़ नहीं होती दु:ख नहीं होता।।
बेशक आपका जवाब ना हो लेकिन अगर आप आज जिस किसी के भी साथ हो तो ये सोच लेना कि जो बदलाव आपका अपना पुराने प्यार के प्रति आया है वो क्या इस नए प्रेमी के लिए नहीं आएगा,,क्या इसकी भी सिर्फ एक गलती पर आप उसको भी नहीं हमेशा के लिए नहीं छोड़ दोगे????

Followers