Sunday, 7 May 2017

नम्र बनो कठोर नहीं

एक चीनी सन्त बहुत ही बूढ़े हो गए थे । उन्होंने देखा की अंतिम समय निकट आ गया है, तो अपने सभी भक्तों और शिष्यों को अपने पास बुलाया ।।
प्रत्येक से बोले --- तनिक मेरे मुँह के अंदर तो देखो भाई कितने दाँत हैं?

प्रत्येक शिष्य इस मुँह के भीतर देखा, प्रत्येक ने कहा -- 'दाँत तो कई वर्ष पहले ही समाप्त हो चुके हैं महाराज ! एक भी दांत नहीं है ।'

संत ने कहा -- 'जिव्हा तो विद्यमान है ?'
सबने कहा -- ' जी हां ।'

संत ने कहा --- ' यह बात कैसे हुई ? जिव्हा तो जन्म समय भी विद्यमान थी । दांत उससे बहुत  पीछे आए । पीछे आने वाले को पीछे जाना चाहिये था ।

ये दांत पहले कैसे चले गए ।'

शिष्यों ने कहा -- ' हम तो इसका कारण समझ नहीं पाते ।'

तब सन्त ने धीमी आवाज़ ने कहा --- ' यही बतलाने के लिए मैंने तुम्हें बुलाया है। देखो !

यह वाणी अब तक विद्यमान है, यह इसलिए की इसमें कठोरता नहीं और ये दांत पीछे आकर पहले इसलिए समाप्त हो गए तो इसलिए की ये बहुत कठोर थे। इन्हें अपनी कठोरता पर अभिमान था ।
यह कठोरता ही इनकी समाप्ति का कारण बनी ।
इसीलिए मेरे बच्चो ! यदि देर तक जीना चाहते हो तो नम्र बनो, कठोर न बनो !!

Monday, 1 May 2017

बेटी



ये भारत है,, यहाँ बहू सबको चाहिए लेकिन अपने घर में बेटी का जन्म कोई नहीं चाहता,,
सबको नमरात्रि में कन्या पूजन करना है लेकिन घर में कन्या के रूप में देवी खुद चलकर आए ये कोई नहीं चाहता।।
बेटियों के साथ भेदभाव का ये नजरिया नया नहीं है,, सदियों से भारत में बेटियों के खिलाफ नफरत और हिंसा का माहौल है।।
अगर माँ के गर्भ में बटी है ऐसा पहले पता चल जाए तो गर्भ में हीं अगर ना पता चल पाया तो जन्म लेते ही औऱ अगर बेटी किश्मत की कुछ ज्यादा ही धनी हुई और अगर जिंदा बच गई तो 5 साल की होते होते माँ बाप के गुस्से का शिकार होकर एक ना एक दिन जिंदगी से हाथ धो बैठेगी और अगर उसके साथ यहाँ तक भी कुछ गलत नहीं हुआ तो बड़ी होकर बलात्कार, तिरष्कार औऱ भेदभाव का शिकार तो हो ही जाएगी।।

बेटी के जन्म पर कुछ लोग ऐसे विलाप करते है जैसे ना जाने कौन की विपत्ति की पहाड़ टूट पड़ा हो।।
शायद वो लोग ये नहीं जानते कि बेटी के बिना जीवन की कल्पना करना बेमानी है,, बेटी के बिना जीवन असंभव है,,
बेटी नो होगी तो माँ नहीं होगी, बेटी ना होगी तो बहन नहीं होगी, बेटी नहीं होगी तो मामी, नानी, चाची , दीदी और ना जाने कितने रिश्ते ना होंगे।।
सामाजिक तानाबाना बिगड़ जाएगा,, जीवन अस्थिर हो जाएगा,, भाईयों के हाथों की कलाइयां सूनी रहेंगी,, घर में बच्चों की किलकारिया नहीं होंगी,,
घर में सीता सी बहू ना होगी,, घर में लक्ष्मी सी बेटी ना होगीं,,

अगर आप चाहते हो कि समाज का तानाबाना अच्छा रहें तो बेटियों को कोख में ही मार मत दो,,
उनको बचाओं उनको पढ़ाओं हर बेटी में,, सुश्मिता सेन, कल्पना चावला, ऐश्वर्या, गीता-बबीता बनने का जज्बा हौसला औऱ काबीलियत तीनों है,, जरूरत है तो उसको सही ढंग से तरासनें की,, उसकी रक्षा करने की उसकी देखभाल करने की,,
अपनी बेटियों को पढ़ाइयें क्या पता कल की कल्पना आपके घर से ही निकलें ,, क्या पता पूरी दुनिया में देश का नाम रौशन करने वाली गीता-बबीता आपकी दोनों बेटियां ही हो।।

क्या पता सारी दुनिया को अपनी सुंदरता के बल पर जीत लेने वाली आपकी अपनी लाडली परी हो।।
क्या पता उसके ये नन्हें औऱ प्यारे हाथ कल कल उसको मैरीकौम बनाए,,,
सोच बदलिए देश बदलिए,, बेटी की शादी से ज्यादा उसकी परवरिश और पढ़ाई की फिक्र कीजिए,, बेटी बोझ नहीं है वो तो आपके सारे बोझ को कम करने वाली है,, आपके दु:खों को कम करने वाली है,,, वो तो आपके साथ कंधे से कंधा मिलाकर चलने वाली आपकी साथी आपकी हमदर्द आपकी हमसफर है,,।।

Naxlism A serious challenge






 The matrydom of our 25 C.R.P.F soldiers has shacked us very badly. The audacious attack of naxalitie’s in the Sukma district of the Chattissgarh state.

Since last few decades, almost every year such big attacks are happening on the Police or on the C.R.P.F. sometimes they attacks on the peoples who are engaged with the construction work..

Sometimes they kills the people in the charge of being the informer of the police..
Naxalism in the country was started in Naxalbadi of Bengal in 60’s..

Initially the Naxalism was carried with the argument that the poor and the deprived sections of extremely backward areas especially the tribal society are being deprived of their rights by the so called feudal rule..
The people who persue the thinking of Naxalism refused to accept the Indian Constitution ..

Naxalities who was thinking to achieving everything on the strength of guns. Started provoking the innocent villagers to increase their power..

Due to the conceptual support of the special class and with the help of modern weapons they have increased their power very much and now they are capable to the fighting talks with the security forces..

The roots of Naxalism are very deep in those areas where the development has not reached or it’s speed is very slow..

Naxalism has been become the biggest threat for our internal security.. Naxalism can be broken by the development of those Naxalism affected areas..

In sukma they targeted the troops which was deployed in the security of newly constructed road..

The road which was constructed ,, was the road connecting of the two highways and by the formation of it. the speed of development in the nearby areas would be faster..
Roads are the carrier of the development .. Naxalist are afraid that if the pace of the development will increase , then their survival hold will also be end..

At one time the Naxalists organizations kept their hideouts in the more than dozen of states of the country dominated by the tribals …
All such places have been abolished by the development and the  strictness of the security forces..in some places of Chattissgarh, Bihar, Jharkhand including Orissa,, Naxalists still have it’s roots..
Bastar area of Chattisshgarh is his strongest stronghold..
Although there is a stable government in Chattisshgarh for 13 years. But they have failed to control the Naxalists,
This is the failure of Raman government that the Naxalities has become the synonymous with terror..

It is not ,, that where the Naxalities are active,,are very inaccessible where can’t be reached.

If the activists of the political parties may want ,, then they can go there to persuade them and bring them back in the main stream..

Either they don’t want to do it or they are met with naxalities..

Regarding the employees of many departments,,, it is believed that due to insecurity, they consider it good to join the hands with the Naxalists..

This is probably the reason that the Naxalities are able to survive such incidents which are going to discourage the security forces..

Whenever this is such a case .. the policies of the central and the state government are being questioned.

After every major incidents of Naxalists ,,the only thing that can be heared is that ,,the security forces did not have the enough resources..
The terrain is very inaccessible and there is lack  of policy at government level and intelligence is not correct,, it is also said that after the conviction of Naxalist’s,, their punishment is not so harsh to prevent other people from going in the Naxalism stream..

The question is why so many problems can not be solved till now??
There should be no easing at the level of governance in the facing of the big problem,, Naxalism..

After the latest incident of shukma, it is also being heared,, that due to the long deployment in the remote areas. the security forces are exhausted ..  it is also heared, that the  deployment in the Naxal affected areas is even more dangerous than the Kashmir valley..

The C.R.P.F should consider that due to the long deployment and the exhaustion.. the soldiers have to face difficulty in being vigilant in the Naxal affected areas..

It also should be seen. that the security forces may not have the lack of modern weapons and the resources should be available in the adequate quantity..

It is the matter of great concern ,, that the Naxalite inspired by the mao’s violent ideology are finally succedding in the collection of modern weapons and the other type of resources in the heart of our country…

Why is the security forces are unable to reach those peoples , who are providing every type of assistance to the Naxalitie’s..

It the bottom of the dire need of these weapons from abroad coming or country from the same..

A time of being said that there is need to make police force more capable so they could be more capable in helping of C.R.P.F soldiers .. it is still not able to be..

In many states including chattissgarh many police posts are empty.. in these states the police intelligence system is also very weak..

Because the C.R.P.F soldiers do come from the other states  that’s why ,, they does unrecognized by the geographical conditions and they also don’t know about the social environment of the Naxalite areas so there is a need of capable police force with the C.R.P.F..

Don’t know why this need is not fulfilling..??


Naxalities are trained in the gorilla war and C.R.P.F is not enough trained for this type of war and encounters..

Here a question arises that , why other states are not following the Chatissgarh?? which is very badly affected by the naxalitie’s..
The state has developed the a special task force for dealing  with the Naxalites..

It is need to understand that the repeatedly attacks of naxalitie’s on the security forces ,, it does not only damage the inner security scenario .. but it is also do weak the India’s image on the international level too..

There is an immediate need of preventing the attacks of Naxalist’s especially on the security forces… for this the central government and the naxal affected state government have to take the hard steps together..

To deal with Naxalism the security fronts have to be fixed and every political and social steps which are very important to be fixed it,, have to be taken very early and after taking those hard steps the government should not step back from their decision….


Thursday, 27 April 2017

रोज दिन की शुरुआत अच्छे मन से कीजीए

कई दिन से मन विचलित था तो अपने आदर्श अब्दुल कलाम जी की जीवनी पढ़ने लगा , एक वाक्य लिखी थी उसमें जो की कलाम जी ने ही बोली है,, वो कहते है कि

जीवन में उतार चढ़ाव बहुत ही जरुरी हैं ।  इसके बिना जीवन बेकार है,, अगर गम नही होगा तो खुशियों के आने का अनुभव हमको कैसे होगा?? और वो कहते है कि कोई व्यक्ति यदि icu में admit है । तो monitor पर उसकी जीवन रेखा में उतार चढ़ाव बहुत ही जरुरी है । जीवन रेखा में यदि उतार चढ़ाव ना हो तो वो मृत्यु का ही सूचक है ।।

कभी कभी हमको लगता है कि हमारे जीवन में बड़ा ही संघर्ष है । बड़ी परेशानी है तो सिर्फ एक बात ही मैं कहना चाहता हूं आपसे ,  की जीवन जीना एक cycle चलाने के समान ही है । और जैसे cycle को balance करने के लिए उसको चलाते रहना जरूरी है उसी तरह से जीवन को सुखमय बनाने के लिए जीवन की सभी परेशानियों का सामना करना बहुत ही जरुरी है ।।

तो खुश रहिये हमेशा और सारे संघर्षो को अनुभव में बदलते रहिये और जीवनपथ पर आगे बढ़ते रहिये हमेशा ।।

Wednesday, 15 March 2017

Unity

एक विशाल बरगद के पेड़ पर भांति भांति के पक्षी और जन्तु निवास करते थे.. हंस, कौए, कोयल, गिलहरी, बंदर आदि.. सबने अपनी अपनी डाली और टहनी चुन ली थी... सबका अपना अपना रहन सहन, खाना पीना पर सभी साथ साथ हँसी खुशी रहते थे... एक दूसरे के सुख दुख के साथी।

एक दिन एक लकड़हारा पेड़ काटने आया... पेड़ पर रहने वाले सभी जंतुओं, पक्षियों ने नोचना, चोंच मारना शुरू किया... लकड़हारा भाग खड़ा हुआ, अपने इरादे में सफल नहीं हो सका.. फिर बाद में उसने युक्ति लगाई.. कौए को बुलाकर बोला- हंस हमेशा तुम्हारी खिल्ली उड़ाता रहता है... तुम काले हो, आवाज भी कर्कश है... गंदगी खाते हो... कोयल भी तुम्हारी आवाज की खिल्ली उड़ाती है।

फिर हंस को अलग बुलाकर बोला - कौआ और कोयल तुमसे जलते हैं... तुम्हारा बेदाग सफेद रंग उनसे बर्दाश्त नहीं होता।

इसी तरह सभी एक दूसरे से जलने लगे और उनका व्यवहार सिर्फ अपनी डाल, अपनी टहनी तक सीमित रह गया।

लकड़हारा फिर आया... अबकी बार उसने एक डाल, जिस पर हंस रहते थे, काटनी शुरू की... हंस छटपटाए लेकिन बाकी पक्षी अपनी अपनी डाल पर इत्मीनान के साथ अपनी दिनचर्या में लगे रहे... लकड़हारे ने हंसों को भगा दिया और वो डाल काट डाली।

इसी तरह उसने एक एक कर सारी डालियाँ काट डालीं... अब वो पेड़ ठूँठ खड़ा है, न डाली, न पक्षी। इस इंतज़ार में कि कब उसे जड़ से ही काट दिया जाएगा...

जानते हैं वो पेड़ कौन है???

वो है हिंदुत्व...

आज हम ब्राह्मण, क्षत्रिय, कायस्थ , सिख, मराठा, जैन, बनियाँ, बौद्ध, यादव, जाट, गूजर, पटेल आदि आदि न जाने कितनी शाखाओं में बँट गये हैं... धर्म, जाति, क्षेत्रीयता, न जाने क्या क्या आधार बना लिये हैं अपने इस बँटवारे के लिए। अलग अलग अपनी अपनी शाखा तक सीमित... हम दुनियाँ से जितना जुड़ते गए, "अपनी" दुनियाँ उतनी ही सीमित होती गई। जड़ और तने पर किसी का ध्यान ही नहीं !!!

नम्र बनो कठोर नहीं

एक चीनी सन्त बहुत ही बूढ़े हो गए थे । उन्होंने देखा की अंतिम समय निकट आ गया है, तो अपने सभी भक्तों और शिष्यों को अपने पास बुलाया ।। प्रत्येक...